भगवान श्री परशुराम

महर्षि जमदग्नि पुत्र, श्री परशुराम त्रेता युग में भगवान विष्णु के छठा अवतार के रूप में माँ  रेणुका के गर्भ से वैशाख शुक्ल तृतीया को हुआ था। वे सदैव अपने गुरुजनों और माता पिता की सम्मान व उनके आज्ञा का पालन करते थे। परशुराम जी के महत्वपूर्ण शिष्य भीष्म, द्रोण एवं कर्ण थे। जन्म– माता…

Read More